ValsadOnline
Join Telegram Valsad ValsadOnline
News

2020 को क्यों बोलें थैंक्स:जानिए इस साल हमने क्या सीखा

ayurveda-learn-what-we-learned-this-year-Valsad-ValsadOnline

कहते हैं कि वक्त से बेहतर शिक्षक कोई नहीं हो सकता।

साल 2020 भी कुछ ऐसा ही रहा। साल के साथ आए कोरोना से हमने बहुत कुछ खोया, लेकिन कुछ नई चीजें भी सीखीं। कुछ पुरानी चीजों का महत्व भी समझा, जिसे हम जानते तो थे, लेकिन नजरअंदाज करते थे।

दिल्ली यूनिवर्सिटी में साइंस एंड ह्यूमन बिहेवियर के प्रोफेसर डॉक्टर धीरज पाठक कहते हैं कि इंसान मुश्किलों और आपदाओं से सबसे ज्यादा सीखता है। निश्चित तौर पर कोरोना महामारी एक बहुत बड़ी समस्या है, लेकिन इससे पहले भी आपदाएं आईं हैं, हर आपदा से हमने सीखा भी है और अपने जीने के तरीके में बदलाव भी किया है। अहम यह है कि हम नई लर्निंग को कितने दिनों तक याद रखेंगे? ह्यूमन बिहेवियर की नजर से देखा जाए तो इंसान बस बड़ी चीजों को याद रखता है, लेकिन छोटी चीजों को भूल जाता है। कोरोना ने हमें छोटी-छोटी चीजों का महत्व सिखाया है, जिसे हमें भूलना नहीं चाहिए।

4 चीजें जो हमने 2020 से सीखीं
ayurveda-learn-what-we-learned-this-year

  1. साफ-सफाई की अहमियत : घर और अपने आसपास साफ-सफाई जरूरी है। यह हम सभी जानते हैं, लेकिन इसके बावजूद बहुत लोग साफ-सफाई को लेकर लापरवाह होते हैं और इसे नजरअंदाज करते हैं। इस साल कोरोना के चलते हमने साफ-सफाई के महत्व को समझा और इसे लेकर गंभीर हुए।
  2. हाथों को ज्यादा धोना : हाथ हम सभी धुलते हैं, लेकिन ज्यादातर लोग ऐसा खाना खाने के वक्त ही करते हैं। आमतौर हम हाथों को धुलने को लेकर इतना ध्यान नहीं देते। कुछ भी छूने के बाद, या किसी से मिलने के बाद कोई शायद ही हाथों को सैनिटाइज करता हो। लेकिन इस साल हम सब सिर्फ हाथ धुलते रहे।
  3. योग और एक्सरसाइज का महत्व : नियमित योग और एक्सरसाइज हम में से बहुत कम लोग किया करते थे। इससे हम न केवल स्वस्थ रहते हैं, बल्कि पॉजिटिव भी। हमारा इम्यून सिस्टम भी मजबूत रहता है। यह साल कोरोना के साये में बीता, सभी अपनी इम्यून सिस्टम और स्वास्थ्य को लेकर गंभीर थे। इसके चलते योग और एक्सरसाइज एक ट्रेंड के तौर पर सेट हुए।
  4. आयुर्वेद और परंपराओं की तरफ लौटे : क्या आप काढ़ा, गर्म पानी, गिलोय, काली-मिर्च और हल्दी दूध पहले पीते थे? लेकिन, आज हम में से बहुत लोग ऐसा कर रहे हैं। डॉक्टर भी बेहतर इम्यून सिस्टम के लिए ऐसी चीजों को लेने की बात कह रहे हैं। 2020 में हमने अपनी परंपराओं के महत्व को समझा और बहुत तेजी से उन्हें अपनाया भी है।

Source

Related posts

ફી મુક્તિ:ગુજરાતમાં રાણકીવાવ, ચાંપાનેર અને ધોળાવીરા સિવાયના 200 પ્રાચીન સ્મારકોમાં વિનામૂલ્યે શૂટિંગ અને ફોટોગ્રાફી કરી શકાશે

સિડનીને બદલે મેલબોર્નમાં ત્રીજી ટેસ્ટ:રોહિત 30 ડિસેમ્બરે ટીમ ઈન્ડિયા સાથે જોડાશે, ઓપનર તરીકે ટીમમાં સામેલ થઈ શકે છે

તમારા કામની તારીખ:માર્ચ પહેલાં આ 8 કામ પર ધ્યાન આપીને તમે નુકસાનથી બચી શકો છો