Valsad Online
Join Telegram Valsad ValsadOnline
Inspiration Thoughts

संत कबीर दास के दोहे गागर में सागर के समान हैं |

kabir-das-ke-dohe-Valsad-ValsadOnline

पोथी पढ़ि पढ़ि जग मुआ, पंडित भया न कोय,
ढाई आखर प्रेम का, पढ़े सो पंडित होय।

meaning :-
बड़ी बड़ी पुस्तकें पढ़ कर संसार में कितने ही लोग मृत्यु के द्वार पहुँच गए, पर सभी विद्वान न हो सके। कबीर मानते हैं कि यदि कोई प्रेम या प्यार के केवल ढाई अक्षर ही अच्छी तरह पढ़ ले, अर्थात प्यार का वास्तविक रूप पहचान ले तो वही सच्चा ज्ञानी होगा

Related posts

एक ले दूजी डाल

ValsadOnline

Vishanugupta Chanakya policy

ValsadOnline

आत्म-चिंतन

ValsadOnline
Chai-Sutta-Bar-Valsad-Valsad-ValsadOnline