ValsadOnline
Join Telegram Valsad ValsadOnline
Inspiration Thoughts

संत कबीर दास के दोहे गागर में सागर के समान हैं |

kabir-das-ke-dohe-Valsad-ValsadOnline

पोथी पढ़ि पढ़ि जग मुआ, पंडित भया न कोय,
ढाई आखर प्रेम का, पढ़े सो पंडित होय।

meaning :-
बड़ी बड़ी पुस्तकें पढ़ कर संसार में कितने ही लोग मृत्यु के द्वार पहुँच गए, पर सभी विद्वान न हो सके। कबीर मानते हैं कि यदि कोई प्रेम या प्यार के केवल ढाई अक्षर ही अच्छी तरह पढ़ ले, अर्थात प्यार का वास्तविक रूप पहचान ले तो वही सच्चा ज्ञानी होगा

Related posts

One who has conquered the Self, can conquer the World

જીવન મંત્ર:ઘમંડ કરવું વર્તમાનમાં તો સુખ આપી શકે છે, પરંતુ ભવિષ્યમાં નુકસાન પહોંચાડે છે

Gayatri Meditation