Valsad Online
Join Telegram Valsad ValsadOnline
Inspiration Thoughts

संत कबीर दास के दोहे गागर में सागर के समान हैं |

kabir-das-ke-dohe-Valsad-ValsadOnline

पोथी पढ़ि पढ़ि जग मुआ, पंडित भया न कोय,
ढाई आखर प्रेम का, पढ़े सो पंडित होय।

meaning :-
बड़ी बड़ी पुस्तकें पढ़ कर संसार में कितने ही लोग मृत्यु के द्वार पहुँच गए, पर सभी विद्वान न हो सके। कबीर मानते हैं कि यदि कोई प्रेम या प्यार के केवल ढाई अक्षर ही अच्छी तरह पढ़ ले, अर्थात प्यार का वास्तविक रूप पहचान ले तो वही सच्चा ज्ञानी होगा

Related posts

You are the Architect of Your Destiny

ValsadOnline

Swami Vivekananda

ValsadOnline

“दुनिया में सबसे खुशी का एहसास तब होता है जब आप एक लक्ष्य निधॅारित करे और उस लक्ष्य को प्राप्त करले ।”

ValsadOnline