Valsad Online
Join Telegram Valsad ValsadOnline
History

भारत की खोज पर निकले वास्को-डि-गामा आज पहुंचे थे |

20-mayhistory-valsadonline

आज का इतिहास दो नाविकों से जुड़ा है। यूरोप के दो नाविक जो भारत की खोज में निकले थे। एक ने इस दौरान अमेरिकी द्वीप को खोजा तो दूसरा आज ही के दिन भारत की धरती पर पहुंचा था। हम बात कर रहे हैं पुर्तगाली नाविक वास्को-डि-गामा और इटली के नाविक क्रिस्टोफर कोलंबस की।

आज ही के दिन 1498 में वास्को-डि-गामा भारत के दक्षिणी छोर पर कालीकट के तट पर पहुंचे थे। वहीं, आज ही के दिन 1506 में क्रिस्टोफर कोलंबस का निधन हुआ। पहले बात करते हैं कोलंबस की।

कोलंबस 1492 में भारत की खोज पर निकले थे। दो महीने से ज्यादा की यात्रा के बाद जिस जगह वो पहुंचे उन्होंने उसे ही भारत समझ लिया। जबकि, वो अमेरिकी द्वीपों पर पहुंचे थे। जिस जगह कोलंबस पहुंचे थे वो बहामास का आइलैंड सैन सल्वाडोर था।

अब बात भारत पहुंचने वाले वास्को-डि-गामा की। कोलंबस की पहली यात्रा के करीब पांच साल बाद जुलाई 1497 में पुर्तगाल के युवा नाविक वास्को-डि-गामा भारत की खोज में निकले। यात्रा की शुरुआत पुर्तगाल की राजधानी लिस्बन से हुई।

वास्को-डि-गामा का पहला ठिकाना बना दक्षिण अफ्रीका। कहा जाता है कि यहां मिले कुछ भारतीयों से ही उन्हें पता चला कि वो भारत नहीं दक्षिण अफ्रीका पहुंचे हैं। दक्षिण अफ्रीका से निकलकर वो आगे बढ़े तो उनके कई साथी बीमार पड़ने लगे। उन्हें अपनी यात्रा मोजाम्बिक में रोकनी पड़ी। यहां के सुल्तान को उन्होंने यूरोपीय उपहार दिए। इससे खुश सुल्तान ने वास्को-डि-गामा की भरपूर मदद की और भारत का रास्ता खोजने में भी मदद की।

आखिरकार, करीब 10 महीने के सफर के बाद 20 मई 1498 को वास्को-डि-गामा कालीकट के तट पर पहुंच गए। कालीकट में तीन महीने बिताने के बाद वो वापस पुर्तगाल लौटे। जब उन्होंने अपना सफर शुरू किया था तो उनके साथ 199 नाविक थे, लेकिन जब वो वापस पहुंचे तो उनके सिर्फ 55 नाविक जिंदा बचे थे।

Source

Related posts

इतिहास में आज:देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी का जन्म, इसकी स्थापना अंग्रेज ने की, लेकिन पार्टी ने आजादी की लड़ाई लड़ी

ValsadOnline

आज वर्ल्ड नो टोबैको डे

ValsadOnline

आज का इतिहास : इसरो ने 104 सैटेलाइट लॉन्च कर बनाया था रिकॉर्ड.

ValsadOnline