Valsad Online
Join Telegram Valsad ValsadOnline
History

आज का इतिहास : चेर्नोबिल बना दुनिया की सबसे बड़ी औद्योगिक त्रासदी का गवाह|

chernolium-desaster-valsad

जब भी दुनिया में हुई औद्योगिक त्रासदियों की बात आती है तो चेर्नोबिल के न्यूक्लियर प्लांट में हुआ हादसा टॉप-5 में गिना जाता है। उस समय के सोवियत संघ और आज के यूक्रेन में स्थित चेर्नोबिल न्यूक्लियर प्लांट में टेस्टिंग होनी थी। पर क्या पता था कि वह टेस्ट कई लोगों के लिए अंतिम पल साबित होगा। 50 लाख लोग प्लांट में हुए हादसे से निकले रेडिएशन का शिकार बने। इससे कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों की वजह से 4,000 से भी अधिक लोगों की मौत हुई।

बात 26 अप्रैल 1986 की है। यानी भोपाल में यूनियन कार्बाइड से रिसी जहरीली गैस के हादसे के सिर्फ दो साल बाद। यूक्रेन की राजधानी कीव से करीब 130 किमी उत्तर में प्रिपयेट शहर में चेर्नोबिल पॉवर प्लांट लगना था। उस समय यूक्रेन सोवियत संघ का हिस्सा था। चेर्नोबिल पॉवर स्टेशन में चार न्यूक्लियर रिएक्टर थे। एक दशक में इन्हें बनाया गया था। जब हादसा हुआ तब दो रिएक्टर्स पर काम चल रहा था।

दरअसल, 26 अप्रैल को न्यूक्लियर प्लांट में टेस्ट होना था। इससे पता चलता कि बिजली जाने पर डीजल जनरेटर पम्प को कितनी देर चालू रख सकता है। टरबाइन कितनी देर तक घूम सकता है। टेस्ट की तैयारी 1-2 दिन पहले ही शुरू हो गई थी। 26 अप्रैल की रात टेस्ट शुरू हुआ। रात करीब 1ः30 बजे टरबाइन को कंट्रोल करने वाले वॉल्व को हटाया गया। रिएक्टर को आपात स्थिति में ठंडा रखने वाले सिस्टम और रिएक्टर के अंदर होने वाली न्यूक्लियर फ्यूजन को भी रोक दिया गया। अचानक रिएक्टर के अंदर न्यूक्लियर फ्यूजन की प्रक्रिया कंट्रोल से बाहर हो गई। रिएक्टर के सभी आठ कूलिंग पम्प कम पॉवर पर चलने लगे, जिससे रिएक्टर गर्म होने लगा और इससे न्यूक्लियर रिएक्शन और तेज हो गई। प्लांट में अफरा-तफरी का माहौल था। रिएक्टर को बंद करने की कोशिशें हो रही थीं कि रिएक्टर में जोरदार धमाका हुआ। धमाका इतना जबरदस्त था कि रिएक्टर की छत उड़ गई। वहां 32 लोगों की मौत हो गई। रेडियोएक्टिव रेडिएशन हिरोशिमा और नागासाकी पर गिराए परमाणु बम से कई गुना अधिक था। हवा के साथ ये रेडिएशन उत्तरी और पूर्वी यूरोप में फैल गया।

विकिरण फैलने से रूस, यूक्रेन, बेलारूस के 50 लाख लोग चपेट में आए। इस विकिरण के फैलने से कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों से 4 हजार लोग मारे गए। 2.5 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हुआ था। लाखों लोगों का स्वास्थ्य बुरी तरह प्रभावित हुआ। 2000 में चेर्नोबिल में काम कर रहे आखिरी रिएक्टर को भी बंद कर दिया गया।

हादसे को छिपाने की कोशिश
सोवियत संघ ने इस घटना को दबाना चाहा। कई दिनों तक इस हादसे की जानकारी दुनिया को नहीं दी गई। रेडिएशन हवा में फैल चुका था, इसलिए उसको छिपाना मुश्किल था। रेडिएशन और राख स्वीडन के रेडिएशन मॉनिटरिंग स्टेशन तक पहुंची। वह चेर्नोबिल से करीब 1100 किलोमीटर की दूरी पर था। हवा में अचानक से रेडिएशन बढ़ने पर स्वीडन की अथॉरिटी चौकन्ना हो गई। वे पता लगाने में जुट गए कि यह रेडिएशन कहां से आया। जब स्वीडन ने मॉस्को सरकार से पूछा तब सोवियत संघ ने इस घटना को स्वीकारा।

देश-दुनिया में 26 अप्रैल को इन घटनाओं के लिए भी याद किया जाता है-

  • 2010ः बिहार सरकार ने बिहार के प्रसिद्ध चिनिया केले की ब्रांडिंग ‘गंगा केला’ के रूप में करने का फैसला किया।
  • 2005ः सीरिया ने लेबनान में 29 साल बाद अपना सैन्य अधिकार छोड़ा।
  • 1999ः भारतीय राष्ट्रपति नारायणन ने नए चुनाव कराने के लिए संसद भंग की। 1999 के चुनावों में अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में NDA की सरकार बनी, जिसने 5 साल शासन किया और ऐसा करने वाली पहली गैर-कांग्रेस सरकार बनी।
  • 1989ः बांग्लादेश में दौलतपुर-सतुरिया में आए तूफान की वजह से 1,300 लोगों की मौत हुई।
  • 1962: पहली बार एक अमेरिकी अंतरिक्ष यान ने चांद की सतह को छुआ। अंतरिक्ष यान रेंजर-4 ने चांद की सतह पर कदम रखा। चांद तक पहुंचने वाला यह पहला अमेरिकी अंतरिक्ष यान था।
  • 1920: महान भारतीय गणितज्ञ श्रीनिवास रामानुजन का निधन हुआ था
  • 1929: इंग्लैंड से पहली नॉन-स्टॉप फ्लाइट ने यात्रा पूरी की।

Source

Related posts

आज का इतिहास : महान कलाकार सत्यजीत रे |

ValsadOnline

आज का इतिहास : भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री

ValsadOnline

आज का इतिहास:लाल बहादुर शास्त्री , वो PM जिनकी एक आवाज पर भारतीयों ने एक वक्त का खाना छोड़ दिया

ValsadOnline