Valsad Online
Join Telegram Valsad ValsadOnline
History

Global Day of Parents 2021: पेरेंट्स के सम्मान में मनाते हैं ‘ग्लोबल डे ऑफ पेरेंट्स’, जानें इसका महत्‍व |

Global Day of Parents 2021: संयुक्त राष्ट्र (United Nations) द्वारा वैश्विक माता-पिता दिवस को 2012 में मान्यता मिलने के बाद इसे हर साल 1 जून को मनाया जाने लगा. यह दिन अपने पेरेंट्स को धन्‍यवाद देने, जीवन में उनकी अहमियत बताने का है.

आज 1 जून को ग्लोबल पेरेंट्स डे यानी माता-पिता का वैश्विक दिवस भी कहा जाता है. यूएन जनरल असेंबली (UN General Assembly) ने साल 2012 में ग्लोबल पेरेंट्स डे मनाए जाने की आधिकारिक घोषणा की थी. ग्लोबल पेरेंट्स डे माता-पिता के प्रति सम्मान (Respect) प्रकट करने और उनके हमारे लिए किए गए बलिदानों के प्रति शुक्रिया कहने के लिए मनाते हैं. ये दिन इस मायने में बहुत खास है कि यह दिन उनके लिए अपने संबंधों और पेरेंट्स को अहमियत देने और उनके साथ इस खास दिन को मनाने का एक अवसर है. यही वजह है कि इस दिन दुनिया भर में लोग अपने माता-पिता के प्रेम और त्याग का महत्‍व समझते हुए उन्‍हें इस दिन की बधाई देते हैं. ऐसे में यह दिन बच्चों के लिए एक ऐसा मौका होता है जब वे अपने पेरेंट्स के निस्वार्थ भाव से किए गए कामों के लिए उनको स्पेशल होने का एहसास कराएं और अपने जीवन में उनकी अहमियत (Importance) बताएं.

इसलिए है इस दिन का खास महत्व

वैसे तो हर दिन पेरेंट्स को सम्‍मान देने और जीवन में उनका महत्‍व बताने के लिए खास होता है और यह कहा जाता रहा है कि माता-पिता हमें ईश्‍वर ने अमूल्‍य तोहफे के तौर पर दिए हैं. जिन्‍होंने हमें जीवन दिया और हमारे लिए कितने ही त्‍याग किए, परेशानियां उठाईं. ऐसे में यह दिन अपने पेरेंट्स को धन्‍यवाद देने, जीवन में उनकी अहमियत बताने का है. परिवार में एक अच्‍छा पारिवारिक माहौल हमें अपने पेरेंट्स की बदौलत ही मिलता है. पेरेंट्स ही बच्‍चों का भविष्‍य बेहतर बनाने और उन्‍हें अच्छे गुण सिखाने की पहल करते हैं. ऐसे में उनकी बेहतर परवरिश करते हैं.

1 जून के दिन को इतिहास में और किन-किन महत्वपूर्ण घटनाओं की वजह से याद किया जाता है…

2008: आईपीएल के पहले संस्करण के फाइनल में राजस्थान रॉयल्स ने चेन्नई सुपर किंग्स को हराया।

1996: एच डी देवगौड़ा भारत के प्रधानमंत्री बने।

1880: अमेरिका के कनेक्टिकट में पहली पेफोन सर्विस शुरू की गई।

1980: CNN ने आज ही के दिन से 24 घंटे समाचारों का प्रसारण शुरू किया।

1930: भारत की पहली डीलक्स रेलगाड़ी डक्कन क्वीन को बॉम्बे वी टी और पुणे के बीच शुरू किया गया।

1955: अस्पृश्यता निरोधक कानून अस्तित्व में आया।

1897: स्वामी विवेकानंद ने रामकृष्ण मिशन की स्थापना की।

Source

Related posts

आज का इतिहास:उस शख्सियत का जन्म, जिसकी वजह से नेत्रहीनों का पढ़ना-लिखना संभव हो पाया

ValsadOnline

इतिहास में आज:उस तानाशाह को अमेरिका ने फांसी दी

ValsadOnline

आज का इतिहास:दो इंसानों ने पृथ्वी की सबसे ऊंची जगह माउंट एवरेस्ट पर पाई थी फतह |

ValsadOnline