Valsad Online
Join Telegram Valsad ValsadOnline
History

आज का इतिहास : ‘फाइट ऑफ द सेंचुरी’ में मोहम्मद अली को मिली पहली हार

HISTORY-ALI-valsad-valsadonline

महान मुक्केबाज मुहम्मद अली ने सशस्त्र सेनाओं में सेवाएं देने से इनकार किया, तो 1967 में उनसे वर्ल्ड हेवीवेट चैम्पियन खिताब छीन लिया गया था। 1970 में जब उन्होंने रिंग में वापसी की, तो उन्हें एक बार फिर अपनी ताकत दिखानी थी। ऐसे में मुहम्मद अली और जो फ्रेजर के बीच 8 मार्च 1971 को वर्ल्ड हेवीवेट चैम्पियन टाइटल के लिए मुकाबला हुआ था। मुहम्मद अली ने इससे पहले 31 मुकाबले जीते थे, जबकि फ्रेजर ने 26 मुकाबले। तब तक दोनों ही मुक्केबाज एक भी मुकाबला नहीं हारे थे।

न्यूयॉर्क के मेडिसन स्क्वायर गार्डन में हुए इस मुकाबले को ‘द फाइट ऑफ द सेंचुरी’ कहा गया। फाइट से पहले अली ने मीडिया से बातचीत में फ्रेजर को व्हाइट एस्टेब्लिशमेंट का चैम्पियन कहना शुरू कर दिया था। इससे मुकाबले को लेकर रोमांच बढ़ गया था। दोनों ने 8 मार्च 1971 को हुए मुकाबले में 15 राउंड्स तक संघर्ष किया। कुछ वर्षों तक रिंग से बाहर रहे मुहम्मद अली कमजोर पड़ गए थे। फ्रेजर ने अपने लेफ्ट हुक से मुहम्मद अली को काफी परेशान किया और उन पर मुक्कों की बरसात करते रहे। इस मैच में लगभग अंधे हो चुके अली दो बार जमीन पर गिरे। अली के करियर की यह पहली हार थी।

1973 में फोरमैन से हारे फ्रेजर को 1974 में फिर मुहम्मद अली से भिड़ना पड़ा। 12 राउंड के मुकाबले में अली जीते। 1 अक्टूबर 1975 में दोनों फिलीपींस में तीसरी बार आमने-सामने आए। इस फाइट को थ्रिलिया इन मनीला कहा गया। यह मुकाबला हेवीवेट चैम्पियनशिप के लिए था और इस बार अली 14 राउंड के बाद टेक्निकल नॉकआउट के जरिए जीते।

देश-दुनिया में 8 मार्च को इन घटनाओं के लिए भी याद किया जाता हैः

2014: क्वालालम्पुर से बीजिंग जाते हुए मलेशिया एयरलाइंस का एक विमान लापता हो गया, जो लाख कोशिशों के बावजूद मिल नहीं पाया। विमान में 227 यात्री और चालक दल के 12 सदस्य सवार थे। इसे खोजने के प्रयास 2017 में बंद कर दिए गए।

1985: बेरूत में एक मस्जिद के नजदीक एक कार बम धमाके में 80 लोगों की मौत और 175 से ज्यादा घायल। हादसे के समय लोग नमाज के लिए मस्जिद में एकत्र हुए थे।

1948: एयर इंडिया इंटरनेशनल की स्थापना। 1953 वसुंधरा राजे का जन्म। वह लगातार दस वर्ष तक राजस्थान में भारतीय जनता पार्टी सरकार की मुख्यमंत्री रहीं।

1942: जापानी फौजों ने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान बर्मा के रंगून शहर पर कब्जा किया।

1930: महात्मा गांधी ने भारत की आजादी के लिए अंग्रेजी शासन के खिलाफ सविनय अवज्ञा आंदोलन शुरू किया।

1921: स्पेन के प्रधानमंत्री एदुआर्दो दातो इरादियर की संसद भवन से बाहर निकलते हुए हत्या कर दी गई।

1702: इंग्लैंड के राजा विलियम तृतीय की मौत के बाद महारानी एनी ने ब्रिटेन की सत्ता संभाली।

Source

Related posts

आज का इतिहास : 11 सालकी स्टूडेंट ने दिया था नाम और 15 साल पहले ग्रह से बना ‘ड्वार्फ प्लैनेट’-प्लूटो

ValsadOnline

आज का इतिहास : क्रांतिकारी रास बिहारी बोस

ValsadOnline

आज का इतिहास :-वनडे क्रिकेट के इतिहास में पहली बार लगी थी डबल सेंचुरी

ValsadOnline