Valsad Online

Category : Inspiration

Inspiration

Gayatri Mahavigyan

ValsadOnline
नाभिपद्म भुवा विष्णेब्रह- ्मणानिर्मि- तं जगत् ।। स्थावरं जंगमं शक्त्या गायत्र्या एवं वै ध्रुवम॥ (वि- ्णोः) विष्णु की (नाभिपद्म भुवा) नाभि कमल से उत्पन्न हुए