Valsad Online
Join Telegram Valsad ValsadOnline
Bollywood News

अमिताभ बच्चन की फिल्म दीवार की मशहूर एक्ट्रेस परवीन बॉबी

Parveen-Babi-Valsad-ValsadOnline

याद कीजिए अमिताभ बच्चन की फिल्म दीवार। इसमें एक दिलचस्प सीन है। अमिताभ बीयर बार में बैठे होते हैं। तभी उनको अकेला देखकर एक महिला उनके पास आती है। जान-पहचान के बिना ही दोनों बात करने लगते हैं। अमिताभ से मिल रही महिला, उस समय की भारतीय महिलाओं से थोड़ी अलग नजर आती है। महिला के एक हाथ में सिगरेट, दूसरे में शराब का प्याला होता है। महिला एकदम कॉन्फिडेंट और शॉर्ट स्कर्ट पहने हुए होती है। इस फिल्म में जिस महिला के किरदार की बात हो रही है, वो भारतीय सिनेमा जगत की मशहूर एक्ट्रेस परवीन बॉबी है। आज उनकी पुण्यतिथि है।

70 के दशक में अपनी ग्लैमर्स भूमिकाओं को लेकर चर्चा में रहीं परवीन का जन्म 4 अप्रैल 1949 को गुजरात के जूनागढ़ के एक मुस्लिम परिवार में हुआ था। शुरुआती शिक्षा माउंट कार्मल हाईस्कूल से हुई। इसके बाद उन्होंने सेंट जेवियर्स कॉलेज से ग्रेजुएशन किया। अहमदाबाद कॉलेज से इंग्लिश लिटरेचर में मास्टर डिग्री ली। पिता वली मोहम्मद बॉबी जूनागढ़ के नवाब के यहां प्रशासनिक सेवा में थे। जब परवीन 10 साल की थीं, तब उनके पिता की मौत हो गई थी।

परवीन ने कई ब्लॉक बस्टर फिल्मों में काम किया। इसमें दीवार, नमक हलाल, अमर अकबर एंथोनी और शान जैसी फिल्में शामिल थीं। परवीन ने कभी शादी नहीं की। परवीन का मॉडलिंग करियर 1972 में शुरु हुआ। फिल्म चरित्र से डेब्यू किया। 20 जनवरी 2005 को सोसायटी के गार्ड ने जब परवीन के दरवाजे के बाहर तीन दिन पुराना दूध और अखबार देखा तो पुलिस को इसकी सूचना दी। पुलिस ने आकर कमरे से शव को बरामद किया। परवीन अपनी जिंदगी के आखिर में ईसाई धर्म अपना लिया था। ये बात उन्होंने एक इंटरव्यू में कही थी। उन्होंने मरने के बाद ईसाई धर्म के अनुसार अपने शव को दफनाने की इच्छा जाहिर की थी, लेकिन उनके रिश्तेदारों ने शव को कब्जे में लेकर उनकी माता के पास दफनाया

Source

Related posts

श्रीनगर: दफ्तरों, एनजीओ पर NIA ने मारे छापे, आतंकियों को मदद पहुंचाने का मामला

ValsadOnline

Should isolation time be reduced to prevent corona from spreading? Know the opinion of experts and doctors | क्या आइसोलेशन का समय कम कर देना चाहिए? जानें एक्सपर्ट्स और डॉक्टरों की राय

ValsadOnline

Our men have committed suicide, they do not sleep in tension day and night, now we are sitting here for our children | हमारे आदमियों ने खुदकुशी कर ली, दिन रात टेंशन में नींद नहीं आती, अब हम यहां अपने बच्चों के लिए बैठे हैं

ValsadOnline